100+ Whatsapp Status In Hindi | Latest Status Download

100+ Whatsapp Status In Hindi | Latest Status Download

  1. बैठ कर किनारे पर मेरा दीदार ना कर; मुझको समझना है तो समन्दर में उतर के देख..
  2. हम मरेगें भी तो उस अंदाज से.. जिस अंदाज में लोग जीने को भी तरसते है..
  3. वो बोलते रहे हम सुनते रहे, जवाब आँखों में था वो जुबान में ढूंढते रहे..
  4. गूलाम हूं अपने घर के संस्कारों का, वरना मै भी लोगों को उनकी औकात दिखाने का हूनर रखता हुं..
  5. तू होगी चाँद का टुकडा , पर मे भी मेरे पापा का जीगर का टुकडा हूं..
  6. तेरी मोहब्बत को कभी खेल नही समजा, वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नही..
  7. देख पगली हर चीज़ एक हद तक अच्छी लगती है, बस एक तू है जो हद से ज्यादा अच्छी लगती है..
  8. शरम उन्हें आती है, जो शरम से शरमाते है, हम तो बेशरम है, साला शरम खुद हमसे शरमाती है..
  9. ‎पगले इतना भी ‎मत‬ ‎अकङ‬ कि तेरे अकङने के, ‪चक्कर‬ में मुझे कोई दूसरा ‪पकड‬ के ले जाऐ..
  10. ‘दोस्तो से “टूट “ कर रहोगे तो कुत्ते भी सतायेंगे, और दोस्तो से “जुड़” कर रहोगे तो शेर भी घबरायेंगे..
  11. में कभी दूसरों के लिए ‪अपनी पसंद‬ नही बदलता, मुझे पसंद करने के लिए ‪सामनेवाले‬, को अपनी पसंद बदलनी‬ पङती है..
  12. सिर्फ तेरे इश्क की गुलामी में हु आज भी , वरना ये दिल एक अरसे तक नवाब रहा हे!
  13. बेशक तास के पत्तों में लाखों गवा दिये, पर रुतबा आज भी ईतना है कि, बेगम आज भी हमारे ईशारो पे चाल चलती है,
  14. चाहे दुश्मन मिले चार या चार हज़ार, सब पर भारी पड़ेंगे मेरे जिगरी यार..
  15. इस ‪‎शहर‬ की हवा तक हमारे ‪‎खिलाफ‬ नहीं चल सकती, तो फिर ‪दूश्मन‬ कि ‪हैसीयत‬ ही क्या है..
  16. वफ़ा की मौज मस्ती में अब भी बादशाह हैं हम, जो दिल को तोड़ देते हैं हम उन्हें छोड़ देते हैं..
  17. दोस्तों की दिल में और दुश्मन की खोपडी मे रहना आदत है हमारी..
  18. हम जैसे सिरफिरे ही इतिहास रचते हैं, समझदार तो केवल इतिहास पढ़ते हैं..
  19. शौक से बदल जाओ तुम मगर, ये ज़हन मैं रखना की.. हम जो बदल गये तो तुम करवटें बदलते रह जाओगे.
  20. तुझे तो हमारी मोहब्बत ने मशहूर कर दिया ऐ बेवफ़ा… वरना तू सुर्खियों में रहे, तेरी इतनी औकात नहीं!!
  21. जानेमन‬ किस बात पर ‪भाव खा‬ रही हो, हुस्न‬ की बात है, तो ‪कसम‬ से ‪तुझसे अच्छी लड़की‬ तो मेरे पड़ोस‬ में ‪बर्तन‬ ‪धोने‬ आती है..
  22. माना की बहुत कीमती है वक्त तुम्हारा, मगर हम भी नायाब है बार-बार नही मिलेगे..
  23. कल उसका फोन आया और बहुत अकड़ के बोली भुल जाना मुझे, मैने कहा अबे पहले नाम तो बता अपना कोन-सी वाली है..
  24. एक्का चाहे कितना भी शातिर क्यो न हो, आख़िर रानी तो बादशाह की ही होती है..
  25. हम भी दरिया है, हमे अपना हुनर मालूम हे। जिस तरफ भी चल पडेंगे, रास्ता हो जायेगा।
  26. अक्सर वही लोग उठाते हैं सूरज पर उंगलियां.. एक जुगनू तक को छूने की जिन की औकात नहीं होती.
  27. सीधा साधा दिखता हूँ, मेरा रोल बदल जायेगा, जिस दिन मैं जिद पर आ गया माहौल बदल जायेगा..
  28. दोस्ती के दरवाज़े लाख बंद कर तू, मैं तो हवा के झोंके सा हूँ, दरारों से भी आ जाऊँगा..
  29. खेल जो भी खेलो दिमाग से खेलना जीत जाओगे, दिल को बीच मे लाए तो हार जाओगे.
  30. जब जरुरत के समय काम आने वाला अपना ही पैसा बदल जाता है… तो अपनों की बात करें ।
  31. छोटी सोच शंकाओं को जनम देती है, जबकि बड़ी सोच समाधान को.
  32. परखो तो कोई अपना नही, समझो तो कोई पराया नहीं.
  33. बुरी आदतें अगर वक़्त पे ना बदलीं जायें, तो वो आदतें आपका वक़्त बदल देती हैं.
  34. तूफ़ान आना भी ज़रूरी होता है ज़िन्दगी में , तभी पता चलता है कौन हाथ पकड़ता है और कौन साथ छोड़ जाता है.
  35. मीठे लोगों से मिल कर जाना कि कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते हैं
  36. आंखो को अक्सर वही चीज़ पसंद आती है,जिसका मिलना मुश्किल हो.
  37.  चर्चा उसी की होती है, हर महफ़िल में जिसके दिल में प्रेम की धारा बहती है.
  38. वक़्त से सीखो बदलते रहने का सबक,वक़्त कभी खुद को बदलते नहीं थकता.
  39. मिल सके आसानी से, उसकी ख्वाहिश किसे है? ज़िद तो उसकी है…जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं.
  40. मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज, में अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करता हैं.
  41. मुकद्दर में लिखा के लाये हैं दर-ब-दर भटकना,
  42. मौसम कोई भी हो परिंदे परेशान ही रहते हैं. क्या ऐसा नहीं हो सकता हम प्यार मांगे, और तुम गले लगा के कहो, ‘और कुछ?
  43. कभी शोख़ है,कभी गुम सी है, ये ठंड भी, सच में, तुम सी है.
  44. मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना, जरा से भी चुके तो महोब्बत हो जायेगी.
  45. होगा तू बादशाह शायरी का मैं भी शायरी की रानी हूँ लबो पर रखती हूँ तेरे अल्फाजों को ये ना समझ खारा पानी हूँ.
  46. ना तड़पाएगी, ना दिल को धड़कायेगी, अपनी वाली, आने वाली ही होगी तो छप्पड़ फाड़ कर आएगी.
  47. सारे सबक़ किताबों में नहीं मिलते कुछ सबक़ ज़िंदगी भी सिखाती है ! 
  48. वज़न तो सिर्फ हमारी इच्छाओं का है, बाकी ज़िन्दगी बिलकुल हलकी फुलकी है।
  49. लगता है आज ज़िन्दगी कुछ ख़फ़ा है, चलिए छोड़िये कौन सी पहली दफ़ा है।
  50. सफल इंसान वही है, जिसे टूटे को बनाना और रूठे को मनाना आता हैं !
  51. कितना भी समेट लो हाथों से फिसलता ज़रूर ह, ये वक्त है दोस्तों बदलता ज़रूर है|
  52. कितना भी समेट लो हाथों से फिसलता ज़रूर ह, ये वक्त है दोस्तों बदलता ज़रूर है
  53. दिल में चाहत का होना जरूरी है वरना, याद तो रोज दुश्मन भी करते हैं.
  54. नाम एक दिन मे नहीं बनता, लेकिन एक दिन जरूर बन जाता है.
  55. खेल जो भी खेलो दिमाग से खेलना जीत जाओगे, दिल को बीच मे लाए तो हार जाओगे.
  56. छोटी सोच शंकाओं को जनम देती है, जबकि बड़ी सोच समाधान को.
  57. परखो तो कोई अपना नही, समझो तो कोई पराया नहीं.
  58. दुकानें उसकी भी लुट जाती है अक्सर हमने देखा है, जो दिन भर में न जाने कितने ताले बेच देता है.
  59. तारीफ अपने आप की करना फिजूल है, खुशबू खुद बता देती है कि कौन सा फूल है.
  60. अच्छा है आशिक़ी करनी छोड़ दी मैने, वरना फालतू में पतीले जैसी शक्ल वाली लड़की की भी तारीफ़ करनी पड़ती थी.
  61. कुछ लोग भूखे गरीब बच्चे को दुत्कार के भगा देते है, और कुत्तो को बिस्कुट खिलाकर वाह वाही बटोरते हैं.
  62. कभी कभी कुछ कुछ जानकर अन्जान रहना पड़ता है, कभी कभी बहुत कुछ जानकर भी बेजु़बान रहना पड़ता है.
  63. ज़िन्दगी की हकीकत को बस इतना ही जाना है, दर्द में अकेले हैं और खुशियों में सारा जमाना है.
  64. मैं दुनिया से लड़ सकता हुँ पर अपनो से नही, क्योँकि अपनो के साथ मुझे जीतना नहीं बल्कि जीना है.
  65. ज़िन्दगी की हकीकत को बस इतना ही जाना है, दर्द में अकेले हैं और खुशियों में सारा जमाना है.
  66. शुक्र है अनुभव हमें पुरानी गलतियों को दोहराने नहीं देता, जो दोहराते हैं बेअक्ल होते हैं.
  67. मैं दुनिया से लड़ सकता हुँ पर अपनो से नही, क्योँकि अपनो के साथ मुझे जीतना नहीं बल्कि जीना है.
  68. मुकाम तो वो चाहिये की जिस दिन हार भी जाऊ, जीत खुद आकर कहे माफ करना मजबूरी थी.
  69. बुरी आदतें अगर वक़्त पे ना बदलीं जायें, तो वो आदतें आपका वक़्त बदल देती हैं
  70. खुबसूरत सा वो पल था, पर क्या करें वो कल था.
  71. तूफ़ान आना भी ज़रूरी होता है ज़िन्दगी में, तभी पता चलता है कौन हाथ पकड़ता है और कौन साथ छोड़ जाता है.
  72. मीठे लोगों से मिल कर जाना कि, कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते हैं.
  73. इंसान की समझ बस इतनी सी है,कि उसे जानवर कहो तो नाराज हो जाता है और शेर कहो तो खुश.
  74. बाप के दम पर तो हर कोई काबिल बन जाता है, बनना है तो अपने दम पे रईस बनो.
  75. आज ऊँगली थाम ले मेरी, तुझे मैं चलना सिखलाऊँ, कल हाथ पकड़ना मेरा, जब मैं बुढा हो जाऊं.
  76. मुकद्दर में लिखा के लाए हैं दर-ब-दर भटकना, मौसम कोई भी हो परिंदे परेशान ही रहते हैं.
  77. क्या ऐसा नहीं हो सकता हम प्यार मांगे, और तुम गले लगा के कहो और कुछ.
  78. चर्चाओ में रहने का हमे शौक नहीं, हमारी हर बात के चर्चे होते है तो हम क्या करे.
  79. क्या हुनर है तेरा पगली हमारे बैग से कोई पेंसिल नहीं चुरा पाया, और तूने सीने से दिल चुरा लिया.
  80. उड़ा देती है नींदे कुछ ज़िम्मेदारियां घर की, रात मे जागने वाला हर शख्स आशिक़ नही होता.
  81. तहजीब देखता हूं अकसर गरीबों के घर में, दुप्पट्टा फटा ही सही लेकिन हमेशा सिर पर होता है.
  82. मैंने भी बदल दिए है ज़िन्दगी के उसूल,अब जो याद करेगा सिर्फ वही याद रहेगा.
  83. हमने तुम्हें उस दिन से और ज़्यादा चाहा है, जब से मालूम हुआ के तुम हमारे होना नही चाहते.
  84. कुछ ही देर की खामोशी है फिर कानों में शोर आएगा, तुम्हारा तो सिर्फ वक्त है हमारा तो दौर आएगा.
  85. काश एक ख़्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर, तुम आ कर गले लगा लो मुझे मेरी इज़ाज़त के बगैर.
  86. ज़िन्दगी जोकर सी निकली, कोई अपना भी नहीं कोई पराया भी नहीं.
  87. हमारा अंदाजा कोई ना लगाए तो ही ठीक रहेगा, क्योंकी अंदाजा तो बारिश का लगाया जाता है, तुफान का नही.
  88. जब इंसान सफल होने लगता है, तब इंसान खुश नही होते हैं, बल्कि जलने लगते हैं.
  89. ज़िन्दगी तो ‪माँ‬ ‪बाप‬ और ‪दोस्तों‬ के लिए है, लेकिन जीने का तरीका तो अपना है.
  90. मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना, जरा से भी चुके तो महोब्बत हो जायेगी.
  91. वो बुलंदियां किस काम की हैं जनाब, कि इंसान ऊँचाई पर चढ़ जाए और इंसानियत नीचे उतर जाए.
  92. जिम्मेदारियां भी एक इम्तेहान होती है, जो निभाता है न उसी को परेशान करती हैं.
  93. इस जिंदगी में कभी कुछ खत्म नही हो सकता, आपकी शुरुआत करना ही सबसे बेहतर है.
  94. कभी कभी तो हम अपने साय से भी डर जाते है, क्योंकि जिंदगी ने हमे बहुत तन्हाइयां दी हैं.
  95. दूर जा रहे हो तो शौक से जाना बस इतना याद रखना, पीछे मुड़ कर देखने की आदत इधर भी नहीं है.
  96. कागज के नोटों से किस-किस को खरीदोगे, आज भी किस्मत आजमाने के लिए सिक्का उछाला जाता है.
  97. किसी पर शक करके बर्बाद होने से अच्छा है, किसी पर यकीन करके बर्बाद जो जाओ.
  98. ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब, कही मेरी माँ की दुवा तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये.
  99. हमे कहानी नही हमे हकीकत चाहिये, हमे जिंदगी नही हमे सिर्फ तू चाहिये.
  100. बस इतना ही चाहिये तुझसे ऐ जिंदगी, कि जम़ीन पर बैठूँ तो लोग उसे मेरा बडप्पन कहें औकात नहीं.

More From Changa